बैकारेट खाता खोल रहा है

बैकारेट खाता खोल रहा है

time:2021-10-21 06:56:43 भारत ने कहा, मत्स्य पालन सब्सिडी पर मौजूदा मसौदा ‘असंतुलित’ Views:4591

बेटिंग राजा कास्ट बैकारेट खाता खोल रहा है 188bet प्रायोजन,fun88 शर्त,lovebet 247,lovebet गैलेक्सी असिस्टेंट,lovebet स्क्रिप्ट डाउनलोड,lovebetल'आवेदन,बैकारेट 540,बैकरेट लाइव गेम खाता खोलना,एनआरएल 2021 में सर्वश्रेष्ठ पांच आठवें,लाठी लाइव APK,कैसीनो घी,शतरंज 0एनलाइन,क्रिकेट 69,क्रिकेट बग,एस्पोर्ट्स ओलंपियाडस 2021,फ़ुटबॉल 6 जुलाई 2021,फ़ुटबॉल.कॉम यू.ए,हा पोकर खिलाड़ी,जीतने के लिए ऑनलाइन बैकारेट कैसे खेलें,क्या ऑनलाइन बैकरेट सट्टेबाजी विश्वसनीय है?,कश्मीर कैसीनो,लाइव कैसीनो gamstop पर नहीं,लॉटरी चेहरा,लूडो ऑनलाइन चुनौती,ओह लॉटरी परिणाम,ऑनलाइन गेम हिडन वस्तु,मोबाइल पर ऑनलाइन रमी,pk10 लॉटरी का सीधा प्रसारण,पोकर सितारे ऐप,रूले सिक्के,रम्मी 4 प्ले,रम्मीकल्चर नया लॉगिन,स्लॉट 24,स्पोर्ट्स एच लोगो,टी क्रिकेट लाइव,सबसे अच्छा ऑनलाइन मनोरंजन,संयुक्त कैसीनो,कौन सा लाइव कैश ब्लैकजैक गेमिंग प्लेटफॉर्म क्रुपियर अच्छा दिखता है,AGइलेक्ट्रोनिक,ऑनलाइन पैसे बनाएं yat,क्रिकेट छक्का,गोवा होटल रूम प्राइस,तीन पत्ती हेल्पलाइन नंबर,बरसात उपचार,मर्सिडीज-बेंज बीएमडब्ल्यू मल्टीप्लेयर संस्करण,स्टेटस का हिंदी, .भारत ने कहा, मत्स्य पालन सब्सिडी पर मौजूदा मसौदा ‘असंतुलित’

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) भारत ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से कहा है कि मत्स्य पालन सब्सिडी पर मौजूदा मसौदा ‘असंतुलित’ है और इसे बातचीत के लिए स्वीकार नहीं किया जा सकता। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है। अधिकारी ने कहा कि मसौदे में भारत द्वारा प्रस्तावित सुझावों को शामिल करने के बाद ही इसे बातचीत के लिए स्वीकार किया जा सकता है।

भारत समय-समय पर कहता रहा है कि वह डब्ल्यूटीओ में मत्स्य पालन सब्सिडी के करार को अंतिम रूप देने का इच्छुक है, क्योंकि कई देशों द्वारा अत्यधिक मछलियां पकड़ने और तर्कहीन लाभों से घरेलू मछुआरों की आजीविका प्रभावित हो रही है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘मौजूदा मसौदा असंतुलित है और जब इसमें भारत द्वारा प्रस्तावित सुझावों को शामिल किया जाएगा, तभी यह बातचीत के लिए संतुलित बन सकेगा। मौजूदा मसौदा बातचीत के लिए आधार नहीं बन सकता।’’

डब्ल्यूटीओ में सदस्य देश मसौदे के आधार पर वार्ता करते हैं जिसके बाद किसी करार को अंतिम रूप दिया जाता है।

अधिकारी ने स्पष्ट किया कि भारत इस समझौते के खिलाफ नहीं है और न ही वह वार्ता में अड़चन डाल रहा है। भारत ने हाल में मत्स्यपालन सब्सिडी पर एक प्रस्ताव सौंपा है। यह प्रस्ताव उन देशों के अनुरूप नहीं है जो अत्यधिक मछली पकड़ रहे हैं या अत्यधिक क्षमता बना रहे हैं।

भारत ने सुझाव दिया है कि ऐसे देश जो दूर पानी में और अपने प्राकृतिक भौगोलिक क्षेत्र के बाहर मछली पकड़ रहे हैं, उन्हें अपने विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र के बाहर 25 साल तक सब्सिडी देना बंद करना चाहिए। अधिकारी ने बताया कि ऐसे देश इस प्रस्ताव का विरोध कर रहे हैं।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

दुर्ग, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने बुधवार को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के नंदिनी क्षेत्र में भिलाई इस्पात संयंत्र (बीएसपी) की चूना पत्थर खदानों का दौरा किया और उत्पादन बढ़ाने का निर्देश दिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। संयंत्र द्वारा जारी बयान में कहा गया कि दौरे के दौरान केंद्रीय मंत्री को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) और इसकी प्रमुख इकाई बीएसपी द्वारा नंदिनी खानों को विकसित करने के लिए किए जा रहे विभिन्न उपायों और पहलों से अवगत कराया गया। उन्होंने इस दौरान खनन जारी रखने और वहां उत्पादन बढ़ाने के लिएनयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) वैश्विक स्तर पर ऊर्जा संकट के बीच भारत ने अपने सबसे बड़े गैस आपूर्तिकर्ता कतर से 2015 के 50 एलएनजी कार्गो की आपूर्ति अब करने को कहा है। छह साल पहले इसे काफी अधिक महंगा माना गया था। देश की सबसे बड़ी तरलीकृत गैस आयातक पेट्रोनेट एलएनजी ने कतर से 2022 में उन 50 कार्गो की आपूर्ति करने को कहा है, जिसे उसने 2015 में नहीं लिया था। कंपनी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अक्षय कुमार सिंह ने सेरा वीक के इंडिया एनर्जी फोरम में अलग से यह जानकारी दी।यूएई ने भारत को ऊर्जा की आपूर्ति का आश्वासन दिया

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र की कंपनी रोल्स रॉयस ने बुधवार को कहा कि वह भारतीय नौसेना के 'फ्लीट ऑफ द फ्यूचर' के लिए इलेक्ट्रिक युद्धपोतों के विकास के लिए उसके साथ साझेदारी करने को इच्छुक है। रोल्स रॉयस ने एक बयान में कहा कि कंपनी भारतीय नौसेना के ग्राहकों को ब्रिटेन के आगामी कैरियर स्ट्राइक ग्रुप टूर के तहत भारत की नौसेना आधुनिकीकरण आवश्यकताओं के लिए अनुकूलित बिजली और प्रणोदन समाधान के डिजाइन, निर्माण और वितरित करने की अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करने के लिए तैयार है।नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) वोडाफोन आइडिया ने बुधवार को कहा कि उसके निदेशक मंडल ने दूरसंचार क्षेत्र के लिए राहत पैकेज के तहत सरकार द्वारा स्पेक्ट्रम भुगतान पर दी जा रही चार साल की मोहलत का लाभ उठाने को मंजूरी दे दी है। दूरसंचार कंपनी ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि दूरसंचार विभाग की अधिसूचना में दिए गए अन्य विकल्पों पर निदेशक मंडल द्वारा निर्धारित समयसीमा के भीतर विचार किया जाएगा। वोडाफोन आइडिया ने कहा, ‘‘... हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि कंपनीभारत सिर्फ गैर-जीएम चावल का निर्यात कर रहा है: सरकार

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने बुधवार को स्पष्ट किया कि भारत आनुवंशिक रूप से परिष्कृत (जीएम) चावल का निर्यात नहीं करता है क्योंकि देश में ऐसी फसल की कोई व्यावसायिक किस्म नहीं है और इसकी खेती भी यहां प्रतिबंधित है। वाणिज्य मंत्रालय का स्पष्टीकरण भारत से कथित जीएम चावल से जुड़ी खाद्य वस्तुओं के निर्यात की खेप को वापस लेने के संबंध में एक रिपोर्ट के बाद आया है। मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘‘यह स्पष्ट किया जा सकता है कि भारत में जीएम चावलनयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) कृषि श्रमिकों और ग्रामीण मजदूरों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में घटकर क्रमश: 2.89 प्रतिशत और 3.16 प्रतिशत पर आ गई, जिसका मुख्य कारण कुछ खाद्य पदार्थों की कीमतों में कमी है। श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘सीपीआई-एएल (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-कृषि मजदूर और सीपीआई-आरएल (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-ग्रामीण मजदूर)) पर आधारित मुद्रास्फीति अगस्त, 2021 के क्रमशः 3.90 प्रतिशत और 3.97 प्रतिशत की तुलना में सितंबर, 2021 में क्रमश: 2.89 प्रतिशत और 3.16 प्रतिशत रही।’’ बयान में कहा गया कि सितंबर, 2020 मेंबिजलीघरों में कोयले की कमी बरकरार, चार दिन से कम कोयला भंडार वाले संयंत्रों की संख्या 61 पहुंची

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
निर्यात गीला

लंदन, 20 अक्टूबर (एपी) ब्रिटेन के प्रतिस्पर्धा नियामक ने सोशल मीडिया मंच फेसबुक पर नियमों के उल्लघंन को लेकर 6.94 करोड़ डॉलर (5.05 करोड़ पाउंड) का जुर्माना लगाया है। नियामक के अनुसार यह जुर्माना फेसबुक द्वारा ऑनलाइन डेटाबेस कंपनी 'गिफी' की खरीद संबंधी जांच के दौरान नियमों के उल्लंघन को लेकर लगाया गया है। ब्रिटेन के प्रतिस्पर्धा और बाजार प्राधिकरण (सीएमए) ने कहा कि फेसबुक जांच के दौरान आवश्यक जानकारी प्रदान करने में विफल रही। सोशल मीडिया कंपनी को कई चेतावनियां दी गईं, लेकिन ऐसा लगता है कि उसने जानबूझकर नियमों के अनुपालन में गलतियां कीं। प्राधिकरण ने कहा

नियम उत्पाद

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि सरकार अगले छह-आठ महीनों में सभी वाहन विनिर्माताओं से यूरो-छह उत्सर्जन मानदंडों के तहत फ्लेक्स-ईंधन इंजन बनाने के लिए कहेगी। फ्लेक्स-ईंधन या लचीला ईंधन, गैसोलीन और मेथनॉल या एथनॉल के संयोजन से बना एक वैकल्पिक ईंधन है। एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गडकरी ने आगे कहा कि अगले 15 वर्षों में भारतीय वाहन उद्योग 15 लाख करोड़ रुपये का होगा।

लॉटरी त्वरित दृश्य

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) वैश्विक स्तर पर ऊर्जा संकट के बीच भारत ने अपने सबसे बड़े गैस आपूर्तिकर्ता कतर से 2015 के 50 एलएनजी कार्गो की आपूर्ति अब करने को कहा है। छह साल पहले इसे काफी अधिक महंगा माना गया था। देश की सबसे बड़ी तरलीकृत गैस आयातक पेट्रोनेट एलएनजी ने कतर से 2022 में उन 50 कार्गो की आपूर्ति करने को कहा है, जिसे उसने 2015 में नहीं लिया था। कंपनी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अक्षय कुमार सिंह ने सेरा वीक के इंडिया एनर्जी फोरम में अलग से यह जानकारी दी।

पोकर राजा का नाम

जम्मू, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय मंत्री बी एल वर्मा ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर में सहकारिता क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि पूर्वोत्तर क्षेत्र सहकारिता एवं विकास राज्यमंत्री वर्मा केंद्र सरकार के जनसंपर्क कार्यक्रम के तहत यहां पहुंचे है। वर्मा ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार जम्मू-कश्मीर में सहकारी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। सहकारिता विभाग को मजबूत और पुनर्जीवित करने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से पहले ही कई पहल की जा चुकी हैं।’’ सहकारिता

फुटबॉल कॉर्नर किक

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) विदेश में पढ़ाई करने की इच्छा रखने वाले कम से कम 52 प्रतिशत विद्यार्थी विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा के मुकाबले विशिष्ट पाठ्यक्रमों को तरजीह दे रहे हैं। एक नवीनतम अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। वैश्विक वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी वेस्टर्न यूनियन द्वारा नीलसन आईक्यू द्वारा कराए गए अध्ययन के नतीजों के मुताबिक अब 64 प्रतिशत विद्यार्थी उन देशों और विश्वविद्यालयों को पढ़ाई के लिए प्राथमिकता दे रहे हैं जहां पर प्रवेश परीक्षा या अंग्रेजी में पांरगत होने की अनिवार्यता नहीं है। अध्ययन में कहा गया, ‘‘विदेश में पढ़ाई करने के इच्छुक विद्यार्थियों में

संबंधित जानकारी
एल्डर स्क्रॉल ऑनलाइन त्वरित स्लॉट

दुर्ग, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने बुधवार को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के नंदिनी क्षेत्र में भिलाई इस्पात संयंत्र (बीएसपी) की चूना पत्थर खदानों का दौरा किया और उत्पादन बढ़ाने का निर्देश दिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। संयंत्र द्वारा जारी बयान में कहा गया कि दौरे के दौरान केंद्रीय मंत्री को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) और इसकी प्रमुख इकाई बीएसपी द्वारा नंदिनी खानों को विकसित करने के लिए किए जा रहे विभिन्न उपायों और पहलों से अवगत कराया गया। उन्होंने इस दौरान खनन जारी रखने और वहां उत्पादन बढ़ाने के लिए

गरम जानकारी
ऐस एजेंट

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) विदेश में पढ़ाई करने की इच्छा रखने वाले कम से कम 52 प्रतिशत विद्यार्थी विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा के मुकाबले विशिष्ट पाठ्यक्रमों को तरजीह दे रहे हैं। एक नवीनतम अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। वैश्विक वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी वेस्टर्न यूनियन द्वारा नीलसन आईक्यू द्वारा कराए गए अध्ययन के नतीजों के मुताबिक अब 64 प्रतिशत विद्यार्थी उन देशों और विश्वविद्यालयों को पढ़ाई के लिए प्राथमिकता दे रहे हैं जहां पर प्रवेश परीक्षा या अंग्रेजी में पांरगत होने की अनिवार्यता नहीं है। अध्ययन में कहा गया, ‘‘विदेश में पढ़ाई करने के इच्छुक विद्यार्थियों में

कैसीनो खेल ऑनलाइन असली पैसा

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) विदेश में पढ़ाई करने की इच्छा रखने वाले कम से कम 52 प्रतिशत विद्यार्थी विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा के मुकाबले विशिष्ट पाठ्यक्रमों को तरजीह दे रहे हैं। एक नवीनतम अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। वैश्विक वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी वेस्टर्न यूनियन द्वारा नीलसन आईक्यू द्वारा कराए गए अध्ययन के नतीजों के मुताबिक अब 64 प्रतिशत विद्यार्थी उन देशों और विश्वविद्यालयों को पढ़ाई के लिए प्राथमिकता दे रहे हैं जहां पर प्रवेश परीक्षा या अंग्रेजी में पांरगत होने की अनिवार्यता नहीं है। अध्ययन में कहा गया, ‘‘विदेश में पढ़ाई करने के इच्छुक विद्यार्थियों में